मृत्यु, मृत्यु के बाद और पुनर्जन्म

मौत के बाद क्या होता है? मृत्यु के बाद का सत्य!

मरने के बाद क्या होता है? मरने के बाद कितने समय तक आत्मा रहती है? इस शरीर को छोड़ने के बाद आत्मा कहाँ जाती है? क्या है मरने के बाद की ज़िन्दगी?

क्या मृत्यु होते ही आत्मा शरीर को त्याग कर बाहर निकल जाती है. क्या होता है मृत्यु के ठीक बाद के कुछ पल में. मौत के बाद आत्मा कहाँ जाती है? मरने के बाद कितने दिन या समय तक आत्मा शरीर में रहती है?

मृत्यु के बाद एक घंटे तक आत्मा शरीर नहीं छोडती , इसमें हमारे परिक्षण का दोष है। सम्पूर्ण मृत्यु तभी होती हैं जब आत्मा शरीर छोड़ देती है। एक घंटा पहले जो स्थिति होती है लक्षणों से हम उसे मृत्यु मान लेते है और इसी कारण कई बार मृत घोषित हो जाने के बाद भी व्यक्ति जीवित हो जाता है। यदि उसको कोई जानकार मिल गया तो।

ऐसे उदाहरण जब तब मिलते रहे है। इसमें अन्तर हमारे समझने की है। शरीर का निष्क्रिय हो जाना मृत्यु नहीं है। क्योंकि धीरे धीरे फैली हुई ऊर्जा केंद्र की ओर सिमटती चली जाती है और शरीर निष्क्रिय हो जाता है।

इसे हम मृत्यु मान लेते है पर वास्तविक मृत्यु तब होती है ; जब केंद्र में बैठी आत्मा शरीर छोड़ देती है। क्योंकि उसको बाँधने वाला पॉवर सर्किट बिखर गया होता है। सनातन धर्म के आचार्यों ने कहा है की शरीर के नष्ट होने से अनुभूतियों की शक्ति नष्ट नहीं होती। यह दूसरी बात है कि उस अनुभूतियों का स्वरुप बदल जाता है और पिछ्ला जीवन एक स्वप्न की भाँती नजर आने लगता है।

मृत्यु के बाद का अनुभव क्या होता है ? मरने के बाद इंसान की आत्मा कहाँ जाती है ? वह कब तक भटकती है ? अकाल मृत्यु क बाद क्या होता है ? क्या मौत और नींद में कोई अंतर है ?

मृत्यु और नींद में अंतर

नींद’ में ‘आत्मा’ पॉवर सर्किट में बनी रहती है। वह केवल अपने एक बिंदु को सुप्त करती है , जो अनुभूत होता है। जबकि मृत्यु में दो स्थिति होती है –

  • आत्मा शरीर को छोड़ देती है; क्योंकि पॉवर-सर्किट नष्ट हो जाता है।
  • शरीर पॉवर सर्किट से अलग हो जाता है और पॉवर सर्किट सूक्ष्म होने के कारण अनुभूति से परे हो जाता है।

नींद में शरीर क्रियाशील रहता है, केवल चेतना शून्य बनी रहती है , जबकि ‘मृत्यु’ में सभी बिंदु मृत हो जाती है, शरीर जड़ हो जाता है।

क्या पुनर्जन्म होता है? मरने के बाद आत्मा कहाँ जाती है?

क्या पुनर्जन्म होता है? मरने के बाद आत्मा कहाँ जाती है? क्या है मरने के बाद का जीवन? जानिए मृत्यु के बाद का सत्य।

ये एक साथ कई प्रश्न है। सभी प्रश्नों के उत्तर के लिए हमें जानना होगा कि ‘जीव’ क्या है? सनातन धर्म के विज्ञान के अनुसार जो वास्तविक ‘जिव’ है; वह ब्रह्माण्ड के नाभिक से निकलने वाला नाभकीय कण है; एक अतिसूक्ष्म परमाणु जिसकी बौछार इससे निरंतर रुक-रुक कर होती रहती है। यह समस्त ब्रह्माण्ड में प्रचुर मात्रा में विकरित होता रहता है।

जहाँ-जहाँ + एवं – धाराएं या + एवं – पिंडों के नाभकीय कण एक-दूसरे से मिलते है, शरीर रुपी ऊर्जा संरचना उत्पन्न होती है। आत्मा (सार) रुपी परमाणु इस शरीर में इसके शीर्ष से होकर इसकी पम्पिंग से खिंचकर इसके केंद्र में चला जाता है और उसके सभी पॉवर-पॉइंट इस शरीर के अनुसार ट्यून हो जाते है। इससे शरीर में भी वे पॉवर-पॉइंट उत्पन्न हो जाते है। इस ट्यूनिंग के कारण इसमें आवेश उत्पन्न होने लगता है, जो ट्यूनिंग के समीकरण में होता है। इससे उसका भाव, रूप – आकृति, कर्म उत्पन्न होता है। यहाँ भाग्य निर्धारित करता है कि किसे कैसा कहाँ शरीर मिलेगा।

पुनर्जन्म क्या है? आइये जानते हैं पुनर्जन्म की वैज्ञानिक सच्चाई

चेतना इस परमाणु का गुण है, जो शरीर में मल्टीप्लाई होकर उस ऊर्जात्मक व्यवस्था के अनुरूप व्यक्त होता है। इस प्रकार जो इकाई उत्पन्न होती है; वह इस आत्मा को अपने शरीर के बंधन में बाँध लेती है। उसके पास कर्म करने की स्वतंत्रता होती है, पर ज्यादा स्पेस नहीं होता। यदि बाघ बना है, तो शरीर के धर्म के ही अनुरूप कर्म की स्वतंत्रता होगी, वह पक्षी के कर्म नहीं कर सकता। पर शरीर के बंधन के बाद भी यदि वह चाहे, जो अपनी अज्ञानता के कारण वह नहीं चाहता और उस शरीर के अनुभूति के संसार में बंध जाता है; तो चाहने पर वह अभ्यास करके कुछ भी कर सकता है। निरंतर अभ्यास और मानसिक केंद्रीय करण से वह पंखवाला भी बन सकता है; पर इसके लिए उसे अपने शारीरक अनुभूतियों से मुक्त होकर अभ्यास करना होगा।

शरीर के ऊर्जा समीकरण की ट्यूनिंग ‘भाव’ के अनुसार होती है। भाव ही कर्म को परिभाषित करता है। इस ट्यूनिंग के अनुसार आत्मा के पॉवर-पॉइंटो की भी ट्यूनिंग होती रहती है। मृत्यु के समय वह जिस समीकरण में ट्यून होता है, वही रह जाता है और उससे उसी समीकरण का चार्ज उत्पन्न होकर उसे आवेशित करता है। चार्ज है, तो कामना है और कामना है, तो वह उसी ऊर्जाक्षेत्र में जाएगा, जैसा चार्ज उस पर है; क्योंकि उसे नेगेटिव की तलाश होती है। उस समीकरण का शरीर मिलते ही वह उसमें खिंच जाएगा और उस शरीर को धारण करेगा।

पुनर्जन्म का चक्र

जन्म-जन्म के फेरे का वैज्ञानिक स्वरुप यह है। आत्मा ब्रह्माण्ड के जीवनकाल तक नष्ट नहीं होती। यह बार-बार शरीर धारण करके जन्म-जीवन और मृत्यु का दुःख भोगती है। यही इसकी नियति है; क्योंकि यह कभी न्यूट्रल नहीं हो पाती। इसीलिए हमारे ऋषियों ने वैराग्य की महत्ता पर जोर दिया है। इसी लिए कृष्ण कहते है कि कर्म के प्रति राग मत रखो। राग नहीं है, तो ट्यूनिंग भी नहीं होगी, चाहे आप कुछ भी कर रहे हों। श्री कृष्ण के अनुसार यही वास्तविक सन्यास या मुक्ति का मार्ग है। कर्म का त्याग नहीं हो सकता, भाव का भी त्याग नहीं हो सकता; पर राग का त्याग हो सकता है।

प्रेम कुमार शर्मा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top